Dnyan

कहीं आप तो नहीं हो रहे मिलावटी डीज़ल और पेट्रोल के शिकार, यहाँ जानिए पेट्रोल की शुध्दता जांचने का सही तरीका

यदि आप भी पेट्रोल डीजल की शुद्धता की जाँच करना चाहते है तो आपको फ़िल्टर पेपर पर फ्यूल की दो बुँदे ही डालने की जरुरत है

 | 
Petrol Pump

पेट्रोल पंप पर डीजल और पेट्रोल की चोरी का होना आम बात है ऐसे में मध्यप्रदेश के इंदौर की लोक अदालत में पेट्रोल पंप मालिकों ने एक याचिका दायर की है इसके तहत सभी पेट्रोल पंपों में पारदर्शी पाइप को लगाने की मांग की गयी है वहीं याचिकाकर्ता का कहना है इससे चोरी से शिकायतों को वारदात को अंजाम दिया जा सकता है वहीं कोर्ट के इस मामले में कलेक्टर और फूड कंट्रोलर को नोटिस भेजा है जिसका जवाब 21 सितंबर से पहले देने के लिए कहा गया है। 

यदि आप भी पेट्रोल डीजल की शुद्धता की जाँच करना चाहते है तो आपको फ़िल्टर पेपर पर फ्यूल की दो बुँदे ही डालने की जरुरत है इसके लिए सबसे पहले डिलेवरी नोजल के मुंह को अच्छे से साफ कर लीजिए और फ़िल्टर पेपर के पेट्रोल की दो बूंदे डाले और इसके बाद में पेट्रोल उड़ जाए तब देखे की गहरे रंग दाग रहा है या नहीं यदि गहरे रंग दाग दिख रहा है तो समझ लीजिए कि पेट्रोल मिलावटी है। 

WhatsApp Group (Join Now) Join Now

इतनी होनी चाहिए पेट्रोल की शुध्दता 

आपको बता दे, पेट्रोल की शुद्धता की जांच उसकी डेंसिटी की मदद से होती है। यदि पेट्रोल की डेंसिटी 730 से 800 के मध्य है तो इसे सुद्ध माना जाता है वहीं यदि इसकी डेंसिटी  730 से कम और 800 से अधिक है तो इसमें मिलावट हो सकती है। वहीं डीजल की बात करे तो इसकी डेंसिटी 830 से 900 के मध्य होनी चाहिए। 

डेंसिटी जार से जाँच सकते है पेट्रोल की शुध्दता 

यदि आप फ़िल्टर पेपर से जाँच करने के बाद में पेट्रोल की शुध्दता पर शक है तो आप डेंसिटी जार की मदद से इसकी शुध्दता जाँच सकते है। 
पेट्रोल की डेंसिटी चेक करने के लिए आपको 500ml जार, हाईड्रोमीटर, थर्मोमीटर और ASTM कन्वर्सन जार की जरुरत है वहीं हाईड्रोमीटर को किसी भी लिक्विड की डेंसिटी को जाँच करने के बेहतरीन उपकरण माना जाता है। यह सभी चीजें पेट्रोल पंप पर उपलब्ध होती हैं।
आपको बता दे, डेंसिटी जार में घनत्व के आधार पर अलग अलग टेम्प्रेचर पर डिफरेंस निकालता है। 

मिलावटी पेट्रोल मिलने पर क्या करे ? 

आपको बता दे, यदि आप मिलावटी पेट्रोल मिलने पर शिकायत दर्ज करना चाहते है तो पेट्रोल पंप के ऊपर अधिकारियो का नुमार होता है आप इसके ऊपर कॉल करके सीधे शिकायत कर सकते है। इसके अलावा आप कंज्युमर कोर्ट में भी शिकायत दर्ज कर सकते है। कम्पनी की शिकायत होने पर पेट्रोल पंप संचालकों को शोकाज नोटिस भेजा जाता है और इसकी जुर्माना लगाया जाता है।